नीड़ का निर्माण फिर भाग 2 ( Neerh Ka Nirman Phir Part 2 – Bachchan Autobiography)

Product Description

प्रख्यात लोकप्रिय कवि हरिवंशराय बच्चन की बहुप्रशंसित आत्मकथा हिन्दी साहित्य की एक कालजयी कृति है। यह चार खण्डों में है: “क्या भूलूँ क्या याद करूँ”, “नीड़ का निर्माण फिर”, “बसेरे से दूर” और “‘दशद्वार’ से ‘सोपान’ तक”। यह एक सशक्त महागाथा है, जो उनके जीवन और कविता की अन्तर्धारा का वृत्तान्त ही नहीं कहती बल्कि छायावादी युग के बाद के साहित्यिक परिदृश्य का विवेचन भी प्रस्तुत करती है। निस्सन्देह, यह आत्मकथा हिन्दी साहित्य के सफ़र का मील-पत्थर है। बच्चनजी को इसके लिए भारतीय साहित्य के सर्वोच्च पुरस्कार -‘सरस्वती सम्मान’ से सम्मानित भी किया जा चुका है।

Additional information

Weight 0.448 kg
Dimensions 23 × 15 × 2 cm
Author

Harivansh Rai Bachchan

Condition

Good, Preowned

Language

Hindi

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “नीड़ का निर्माण फिर भाग 2 ( Neerh Ka Nirman Phir Part 2 – Bachchan Autobiography)
X
WhatsApp WhatsApp us