Author: हेमंत यादव

रास्तों में
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 330 Views
  • |
  • 1 Comment

जिंदगी में हर पल
जन्म लेने वाली
छोटी-छोटी ख्वाहिशे़
रास्तों की धूल तले
दबकर ही कहीं खो जाती है
और बारिश की बूंदों के साथ
बहकर नदी नालों से गुजरती हुई
समा जाती है समुंदर की लहरों में

Read More
कोशिश
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 1239 Views
  • |
  • 0 Comment

यूं तो जरूरी नहीं
हर कोशिश में सफल हो जाओ
लेकिन हुनर सितारों की तरह
चमकते रहने का बनाएं रखो
रास्तों कांटों से ही नहीं
फूलों से भी भरे हैं
बस बीज हौंसले के बोयें रखो
बेवजह मत कोसा करो
खुद को किस्मत का हवाला देकर
खुद भी कभी मंजिल ढूंढ़ने का पथ तलाशा करो

Read More
स्त्री और सांसों की गिनती
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 5225 Views
  • |
  • 1 Comment

कुछ स्त्रियां सांसे गिनती है
अपनी जिंदगी की
खौफ के सायें में
ख्वाबों को मारकर
हर रोज आसूंओं का
कड़वा जहर पीकर
झूठी मुस्कान की ओट लेकर
और संस्कारों की चादर में
घूट-घूट कर जीना
अगर जिंदगी है तो
इसे मैं जीना नहीं कहूंगी
सिर्फ सांसों की गिनती कहूंगी

Read More
दीवारें

जमाना वो आ गया है
जहां दीवारें बड़ी और
रिश्ते छोटे हो गये
बंद कर दिया है
उन दीवारों में
भावनाओं और अपनेपन को
अब वो रिश्ते
प्रेम की बारिश तो दूर
मुस्कुराहट की बूंदों को भी
तरसते हैं
और किसी चातक पक्षी की भांति
निहारते हैं बादलों को
कि काश कोई बूंद गिर जाए बादलों से
और खुद को महसूस करा लें
बारिश से भीगा हुआ

Read More
अल्फाजों की महफ़िल
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 5233 Views
  • |
  • 1 Comment

आजकल लोग प्रेम नहीं
बातें प्रेम की करते हैं
दूरी रखते हैं
रिश्तों की आहटों से भी
लेकिन बात रिश्तों के निभाने की करते हैं
लगाते हैं कीमत खुशियों की
लेकिन चंद स्वार्थों में खुशियां गंवाते
फिरते है
पता है जिंदगी मौत पर
आकर खुद रूकेंगी
लेकिन फिर भी मौत के नाम से डरते है
हम तो बेहिसाब प्रेम दिल में
भरे बैठे हैं तुम्हारा
फिर भी इजहार कर देने के नाम से डरते हैं

Read More
बात-बात
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 5175 Views
  • |
  • 0 Comment

1.बेवजह गुस्सा और
बात-बात पर नाराज़
होने लगे हो
मोहब्बत बढ़ गई या
नफ़रत करने लगे हो

2.तेरे अलावा किसी से
मोहब्बत होगी तो
वो मौत होगी
चंद स्वार्थों की खातिर
दिल में मोहब्बत बदलने का
रिवाज नहीं आता हमें

3.तुझे तेरी खुशियों के
साथ आजाद किया है मैंने
हंसी तुम्हारी होगी तो
मुस्कान यहां तक भी आयेगी

Read More
शोर

स्त्री की खामोशी
के पीछे शोर होता है
जब उठता है
वो विद्रोह करने को
दुनिया क्या कहेगी के
ड़र से दम तोड़ देता है
उसी खामोशी की ओट लेकर
हमेशा के लिए
खामोश कर जाता है
स्त्री को

Read More
जंग
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 2440 Views
  • |
  • 0 Comment

हालातों से हार मान लेना
फितरत नहीं हमारी
ईश्वर में आस्था और
खुद पर विश्वास
हमे हर जंग फतह करवायेगा

Read More
फरियाद
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 3749 Views
  • |
  • 1 Comment

फरियाद को महज
फरियाद मानकर
मत ठुकराना
तुम तक पहुंचते-पहुंचते
ना जाने कितने दुखद सुखद
अहसासों के समंदर में डूबी निकली होगी
उसमें शामिल होती है
ईश्वर की दुआ
धड़कनों की आहट
आसूंओं के साथ बनाई होती है
उसको पूरी करने की इच्छा
वो फरियाद ही है जो तुम्हें
ईश्वर समान मान तुम्हारे सामने
पूरी होने को आतुर
हाजिर होती है
ना कर सको पूरी तो
बिना मजाक करें
मांग लिया करो माफी

Read More
जहां
  • By हेमंत यादव
  • |
  • Poetry
  • |
  • 3188 Views
  • |
  • 0 Comment

जिंदगी इतनी आसानी से भी
नहीं कटती
सांसों की कीमत हर पल चुकानी पड़ती है
खुद को खुद से निकालकर
छोड़ देना पड़ता है
दुनिया की बाहों में
जहां खुशी की गर्माहट के साथ
समुंदर पीड़ाओं का भी बहता है
जिसमें हर रोज गोते लगा
पार कर पहुंचना पड़ता है
खुशियों के जहां में

Read More
X
WhatsApp WhatsApp us